स्टैंड उप इंडियन लोन योजना: ऑनलाइन आवेदन करें, लॉगिन और आवेदन की स्थिति

अनुसूचित जनजाति क्षेत्रों में महिलाओं के बीच उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए भारत के माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने स्टैंड अप इंडिया ऋण योजना शुरू की है। लाभार्थियों को आर्थिक रूप से सशक्त बनाने के लिए यह योजना 15 अगस्त 2015 को शुरू की गई थी। इसके अलावा ये योजना रोजगार के अ में भी मदद करती है। यह योजना लाभार्थी को राष्ट्र के आर्थिक विकास में भाग लेने में सक्षम बनाती है। 1.25 लाख बैंकों के माध्यम से लगभग 2.5 लाख लाभा इस योजना से लाभान्वित होंगे। इस लेख के माध्यम से हम आपको इस योजना के बारे में पूरी जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं जैसे इसका उद्देश्य, लाभ, सुविधाएँ, पात्रता मानदंड, आवश्यक दस्तावेज, ऑनलाइन आवेदन करना, लॉग इन करना, आवेदन की स्थिति को ट्रैक करना आदि। इसलिए यदि आप इसका लाभ लेने के इच्छुक हैं। स्टैंड-अप इंडिया ऋण योजना तो आपसे अनुरोध है कि इस लेख को अंत तक बहुत ध्यान से पढ़ें।

स्टैंड अप इंडिया लोन योजना 2022 के बारे में

भारत सरकार ने स्टैंड अप इंडिया लोन योजना शुरू की है। इस योजना के तहत अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और महिला उधारकर्ताओं को बैंक ऋण प्रदान किया जाता है। ये बैंक ऋण 10 लाख रुपये से लेकर 1 करोड़ रुपये तक के होंगे। इस योजना की सहायता से कम से कम एक अनुसूचित जाति या अनुसूचित जनजाति उधारकर्ता और कम से कम एक महिला उधारकर्ता प्रति बैंक शाखा को ग्रीनफील्ड उद्यम स्थापित करने के लिए ऋण प्रदान किया जाएगा। यह उद्यम एक विनिर्माण, सेवा, कृषि संबद्ध गतिविधि या व्यापारिक क्षेत्र हो सकता है। यदि उद्यम गैर-व्यक्तिगत है तो कम से कम 51% शेयरधारिता और नियंत्रण हिस्सेदारी अनुसूचित जाति या महिला उद्यमियों के पास होनी चाहिए।

यह योजना अनुसूचित जाति और महिला उद्यमियों को उद्यम स्थापित करने, ऋण प्राप्त करने और समय-समय पर आवश्यक अन्य सहायता प्रदान करने में सुविधा प्रदान करने के लिए शुरू की गई है। इस योजना के तहत, अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों की सभी शाखाओं को सीधे शाखा में या सिडबी स्टैंड-अप इंडिया पोर्टल के माध्यम से प्रमुख जिला प्रबंधक के माध्यम से कवर किये जायेंगे

स्टैंड अप इंडिया ऋण योजना का उद्देश्य

स्टैंडअप इंडिया ऋण योजना का मुख्य उद्देश्य ग्रीनफील्ड उद्यम स्थापित करने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करना है। इस योजना के माध्यम से अनुसूचित जाति, या महिला उद्यमियों को 10 लाख रुपये से 1 करोड़ रुपये तक की वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है। इस योजना की मदद से अनुसूचित जाति,अनुसूचित जनजाति और महिला उद्यमियों को उद्यम स्थापित करने, ऋण प्राप्त करने और समय-समय पर आवश्यक अन्य सहायता प्राप्त करने में सुविधा होगी। इसके अलावा इस योजना के माध्यम से रोजगार पैदा होगा जिससे बेरोजगारी दर में कमी आएगी। स्टैंड-अप इंडिया ऋण योजना के तहत 1.25 लाख बैंकों के माध्यम से लगभग 2.5 लाख लाभार्थी लाभान्वित होंगे।

स्टैंड अप इंडिया लोन योजना मार्जिन मनी और शिकायत निवारण

  • योजना के तहत 15% मार्जिन मनी की परिकल्पना की जाएगी उधारकर्ता को परियोजना लागत का कम से कम 10% स्वयं के योगदान के रूप में निवेश करना आवश्यक है |
  • यदि राज्य योजना उधारकर्ता को सहायता लागत का 20% सब्सिडी के रूप में देती है|
  • उधारकर्ता को परियोजना लागत का कम से कम 10% योगदान करना आवश्यक है|
  • इस योजना के क्रियान्वयन की जिम्मेदारी जिला स्तरीय ऋण समिति की होगी|
  • जिला स्तर पर विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा|
  • जिसमें संभावित उद्यमियों का मार्गदर्शन करने के लिए योजना के हितधारकों को शामिल किया जाएगा
  • ये आयोजन उद्यमियों को पंजीकरण करने में मार्गदर्शन करेंगे सिडबी इन आयोजनों के आयोजन के लिए सहायता प्रदान करेगा|
  • कर्जदारों की शिकायतों का भी होगा समाधान पोर्टल विभिन्न अधिकारियों के संपर्क विवरण प्रदान करता है जो शिकायतों में भाग लेंगे |
  • जल्द ही पोर्टल के माध्यम से शिकायतों को जमा करने और बाद में ट्रैकिंग के लिए एक ऑनलाइन प्रक्रिया विकसित की जाएगी |
  • इसके अलावा शिकायत के निपटान पर फीडबैक ग्राहकों द्वारा उपलब्ध कराया जाएगा |

स्टैंड अप इंडिया ऋण योजना की पात्रता मानदंड

  • आवेदक भारत का स्थायी निवासी होना चाहिए आवेदक अनुसूचित जनजाति या महिला उद्यमी होना चाहिए
  • आवेदक की आयु 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए उधारकर्ता किसी भी बैंक या वित्तीय संस्थान का डिफॉल्टर नहीं होना चाहिए गैर-व्यक्तिगत उद्यम के मामले में 51% शेयर होल्डिंग और कंट्रोलिंग स्टेक या तो एससी / एसटी या महिला उद्यमी के पास होना चाहिए योजना के तहत केवल ग्रीनफील्ड परियोजना के लिए ऋण प्रदान किया जाएगा

Leave a Comment